आलेख

चीन-पाकिस्तान से निपटने के लिए हमें सीमाओं को मजबूत रखना होगा

सत्यवान ‘सौरभ’

1970 और 80 के दशक में चीन और पाकिस्तान के बीच संबंध विकसित हुए। इनसे मुकाबला करना भारत की पहल था। चीन-पाकिस्तान की धुरी दो मोर्चों पर युद्ध की संभावना को खोलता है, इसलिए भारत को सीमाओं पर अपने सुरक्षा तंत्र को मजबूत रखना अत्यंत जरुरी है। कुछ समय पहले तक, दो मोर्चों पर युद्ध की बातों ने दो परस्पर विरोधी मतों को जन्म दिया। मगर भारत की सेना का दृढ़ मत था कि चीन-पाकिस्तान सैन्य खतरा एक वास्तविक संभावना है, और हमें इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए क्षमताओं का विकास करना चाहिए। दूसरी ओर, सामान्य रूप से राजनीतिक वर्ग और देश के रणनीतिक समुदाय के मुख्य वर्ग ने महसूस किया कि अतिरिक्त संसाधनों और धन के लिए दबाव बनाने के लिए सेना द्वारा दो-मोर्चे के खतरे को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है। उन्होंने तर्क दिया कि ऐतिहासिक रूप से, चीन ने कभी भी भारत-पाकिस्तान संघर्ष में सैन्य हस्तक्षेप नहीं किया है और भारत और चीन के बीच आर्थिक, राजनयिक और राजनीतिक संबंध दोनों देशों के बीच किसी भी सशस्त्र संघर्ष से इंकार करते हैं। नतीजतन, भारतीय रणनीतिक सोच पाकिस्तान और वहां से निकलने वाले सुरक्षा कारणों पर अत्यधिक केंद्रित थी।

चीनी धन और सामग्री (चीनी निर्मित हथगोले सहित) का उपयोग करके पाकिस्तान सीमा पार आतंकवाद को बनाए रखने में सक्षम है। जो सीमाओं पर भारत के सुरक्षा तंत्र के लिए खतरा है। वे म्यांमार और बांग्लादेश के साथ खुली और झरझरा सीमाओं का शोषण करके सीमा प्रबंधन को अस्थिर करने के अपने प्रयासों को मिलाने में सक्षम हैं। पीओके के माध्यम से चीन-पाकिस्तान इकनोमिक कॉरिडोर का पारित होना भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को प्रभावित करता है। पाकिस्तान सीमाओं पर दोनों सैन्य उद्देश्यों के लिए बेईदोउ का उपयोग करने के लिए पूरी तरह तैयार है, जिससे अमेरिका स्थित ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम पर उनकी निर्भरता समाप्त हो जाएगी। ऐसे में चीन-पाक की धुरी से निपटने के लिए सीमा ढांचे को मजबूत रखा चाहिए। बॉर्डर रोड इन्फ्रा अंतर-क्षेत्रीय और अंतर-क्षेत्रीय मुद्दों से संबंधित सुरक्षा चिंताओं को नियंत्रित करके शांति और स्थिरता बनाए रखने में मदद करता है। बुनियादी ढांचे का निर्माण कर भारत सैनिकों की आवाजाही के लिए समय कम करने के लिए ढोला-सादिया पुल जैसे कुछ महत्वपूर्ण पुलों का भी निर्माण कर रहा है। भारत ने चीन को नियंत्रित करने के लिए उत्तर पूर्व में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को आक्रामक रूप से विकसित करने के लिए जापान के साथ हाथ मिलाया है।

पाकिस्तान से घुसपैठ के प्रयासों का मुकाबला करने के लिए भारतीय सेना की शांति समय की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए छह सीमा निगरानी प्रबंधन प्रणालियों (बीएसएमएस) की खरीद कर रहा है। बोल्ड-क्यूआईटी व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली (सीआईबीएमएस) के तहत तकनीकी प्रणालियों को स्थापित करने की एक परियोजना है, जो बीएसएफ को ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों के बिना बाड़ वाले नदी क्षेत्र में भारत-बांग्लादेश सीमाओं को विभिन्न प्रकार के सेंसर से लैस करने में सक्षम बनाती है। यूएवी और अन्य सर्विलांस गैजेट्स जो पहले से ही इंस्टालेशन के अधीन हैं, ने मानवीय त्रुटि के कारण होने वाली घटनाओं को काफी कम कर दिया है। मिनी यूएवी का उद्देश्य पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा और चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए टोही करना भी है। भारत को इस बात से चिंतित होने की जरूरत है कि चीन पीओके में उस अच्छी नीति को दोहराने की कोशिश कर रहा है जिसे उसने पहले तिब्बत, शिनजियांग और पूरे मध्य एशिया में लागू किया था। बीजिंग उन अंतरालों को भरने के लिए एक ऐतिहासिक अवसर की तलाश करेगा जहां भारत काफी हद तक विफल रहा है। पीओके की रणनीतिक स्थिति को दक्षिण, पश्चिम, मध्य और पूर्वी एशिया के संपर्क बिंदु के रूप में देखते हुए, चीन के इस कदम के महत्वपूर्ण यूरेशियन क्षेत्र में भारत की पहुंच को सीमित करने के निहितार्थ हैं।

पाकिस्तान और चीन की सीमाओं पर सीमा प्रबंधन के लिए पारंपरिक दृष्टिकोण अर्थात केवल सीमा सुरक्षा पर ध्यान देना अपर्याप्त हो गया है। भारत को न केवल निर्बाधता सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, बल्कि सीमा नियंत्रण और निगरानी के लिए नई तकनीकों को अपनाने और डेटा के प्रवेश, विनिमय और भंडारण के लिए एकीकृत प्रणालियों के विकास के साथ, सुरक्षा कर्मियों और भारत की आंतरिक सुरक्षा को खतरे में डाले बिना पूर्ण प्रमाण सीमा सुरक्षा की सुविधा प्रदान करना भी है। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि चीन, एक उभरती हुई और आक्रामक, महाशक्ति, भारत के लिए बड़ा रणनीतिक खतरा है, जिसमें पाकिस्तान बीजिंग की ‘भारत को नियंत्रित करने की रणनीति’ के लिए दूसरे क्रम का सहायक है। इसलिए, भारत को राजनीतिक रूप से भारत पर लक्षित चीन-पाकिस्तान नियंत्रण रणनीति के प्रभाव को कम करने के लिए वह करना चाहिए जो वह कर सकता है। एक शोध पत्र में कहा गया है कि दो मोर्चों के खतरे के परिदृश्य में, चीन के साथ सैन्य विषमता चौड़ी हो गई है जबकि पाकिस्तान के साथ पारंपरिक विषमता में अंतर कम हो रहा है। संयुक्त खतरे का मुकाबला करने के लिए, भारतीय सशस्त्र बलों को भारत-विशिष्ट सिद्धांत विकसित करने की आवश्यकता है। यह अंतरिक्ष युद्ध लड़ने और एलओसी और एलएसी के साथ प्रौद्योगिकी के साथ-साथ “बूट्स ऑन द ग्राउंड” को तैनात करने में मदद करेगा।

  • सत्यवान ‘सौरभ’
    रिसर्च स्कॉलर, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,
    आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,

333, परी वाटिका, कौशल्या भवन, बड़वा (सिवानी) भिवानी, हरियाणा – 127045

— सत्यवान ‘सौरभ’,

रिसर्च स्कॉलर, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,

333, परी वाटिका, कौशल्या भवन, बड़वा (सिवानी) भिवानी, हरियाणा – 127045

मोबाइल :9466526148,01255281381

(मो.) 01255-281381 (वार्ता)

(मो.) 94665-26148 (वार्ता+वाट्स एप)

facebook – https://www.facebook.com/saty.verma333

twitter- https://twitter.com/SatyawanSaurabh


नोट- आपको प्रकाशनार्थ भेजी गई मेरी रचना/आलेख/ कविता/कहानी/लेख नितांत मौलिक और अप्रकाशित है।

Attachments area

50% LikesVS
50% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!