खबरों की खबरसाहित्य

साहित्यकार/कवि सुधीर श्रीवास्तव ने किया देहदान की घोषणा

__दि ग्राम टुडे न्यूज़


गोण्डा(उ.प्र.): सामाजिक दायित्व निर्वहन के परिप्रेक्ष्य में जिले के वरिष्ठ साहित्यकार/कवि आ.सुधीर श्रीवास्तव ने अंततः १३ मई को बहुप्रतीक्षित देहदान की आनलाइन घोषणा की है। नेत्रदान का पूर्व में संकल्प कर चुके श्री श्रीवास्तव विद्यार्थी जीवन से ही देहदान की इच्छा रखते थे।
         २०२० में पक्षाघात का शिकार होने के बाद उनकी इच्छा और मजबूत होती गई और अंततः आज उन्होंने सार्वजनिक घोषणा कर दी।
     ज्ञातव्य है कि साहित्य जगत में अपने सहयोगात्मक स्वभाव के कारण नवोदितों में लोकप्रिय, प्रेरक व्यक्तित्व, मार्गदर्शक की भूमिका निर्वहन करते आ रहे सुधीर श्रीवास्तव विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं में पदाधिकारी भी हैं। जिनमें स्व.हंसराज अरोड़ा स्मृति मंच के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक, नव साहित्य परिवार भारत, साहित्यकोष (राष्ट्रीय साहित्यिक मंच), राष्ट्रीय गौरव साहित्यिक, सांस्कृतिक  संस्थान के संरक्षक, अ.भा. साहित्यिक आस्था परिवार के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, प्रयागराज कल्चरल सोसायटी के महासचिव, कुछ बात कुछ जज़्बात मंच के मीडिया प्रभारी, साहित्य प्रकाश रचना मंच के अलावा अन्य साहित्यिक संस्थाओं को भी अपरोक्ष सहयोग और मार्गदर्शन दे रहे हैं।
      विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से लगभग 1600 ई सम्मान/सम्मान पत्र प्राप्त कर चुके श्री सुधीर श्रीवास्तव गतवर्ष 25 मई’2021 को पक्षाघात का शिकार होने और स्वास्थ्य लाभ के दौरान श्री श्रीवास्तव लगभग 22 वर्षों से बंद लेखन को पुनर्जीवित कर पुनः साहित्य साधना में लौटे। देश के विभिन्न प्रांतों के 150 से अधिक नवोदितों का मार्गदर्शन कर उनके प्रेरक और गाड फादर की भूमिका निभाते रहने वाले श्रीवास्तव का  विहंगम प्रयास कर रहे है।
     श्री सुधीर श्रीवास्तव द्वारा देहदान की घोषणा पर जिले और मंडल ही नहीं देश/विदेश के साहित्यकारों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ,साहित्यिक, सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों के अलावा पारिवारिक सदस्यों, रिश्तेदारों, मित्रों,शुभचिंतकों ने प्रसन्नता व्यक्ति करते हुए उन्हें बधाइयां और शुभकामनाएं दी हैं। श्री श्रीवास्तव ने मंच के साथ साथ सभी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए आमजन से नेत्रदान, रक्तदान, अंगदान और देहदान के लिए आगे आने की अपील भी की है। उनका मानना है कि यह एक मानवीय ही नहीं सामाजिक दायित्व भी है। क्योंकि समाज और राष्ट्र हमें जीवन भर बहुत कुछ देता रहता है तो समाज और राष्ट्रहित में हमारा भी कुछ कर्तव्य तो बनता ही है।

100% LikesVS
0% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!