ग्राम टुडे ख़ास

इतने डिग्री ले के घूम रही है



डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव

बिना पढ़े ना मिले ये डिग्री,
कुछ तो पढ़ी लिखी होगी।

इतने डिग्री लेके घूम रही है,
छाले भरे पड़े पांव में होगी।

सूखे हैं होंठ थकी लगती है,
चेहरा देखो तो बहे पसीना।

गज़ब हिम्मती है ये तो देखो,
इस गर्मी में यह चले हसीना।

एक पल भी तो बर्दास्त नहीं,
कोई भी ठहर ना पाये इसमें।

ज़िस्म जला देती है पूरा पूरा,
गोरे भी हो जाते काले इसमें।

नीचे से जलती है यह धरती,
ऊपर से खौलता आसमान।

ऐसा है यह गर्मी का मौसम,
कैसे सुरक्षा करें पशु इंसान।

सम्हले रहें इस धूप गर्मी से,
हानिकारक हैं इसके थपेड़े।

लू बन जाती है बड़ी आफत,
सह न सके यह शरीर थपेड़े।

सर मुंह ढँके बिना अंगौछे से,
बाहर न जायें खतरा है जान।

गर्मी से बहुत बच कर रहना है,
45 डिग्री का है यह तापमान।

डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव
वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.
(शिक्षक,कवि,लेखक,समीक्षक एवं समाजसेवी)
इंटरनेशनल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर,नार्थ इंडिया
2020-21,एलायन्स क्लब्स इंटरनेशनल,प.बंगाल
संपर्क : 9415350596

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!