ग्राम टुडे ख़ास

कुमारी मंजू मानस की कलम से

और तुमसे ही हमारी पहचान हो

कितने खुबसूरत अन्दाज में
उसने कहा की मैं निखर गयी हूँ…

लेकिन पल भर में .उसका जबाब आया
मैं तेरे दामन में में आकार बिखर गया हूँ….

मैने भी उससे मन ही मन में कह दिया
तब तो ज़ाओं और अच्छी बात है ……….

इस पेड़ो की शिखर से लग कर
अपनी ज़िन्दगी को इस कदर संवांर ज़ाओं ………..

कुछ ऐसा कर ज़ाओं ज़िन्दगी में हमारा भी नाम हो ….
ऑर तुमसे ही हमारी पहचान हो …………..

हमारा झंडा सबकी शान

चलो चलते है हम वतन पे
कुर्बान अब हो जाये

ये भारत देश का झंडा है
इसको हम लहराये

तीन रंगों से बना हुआ
ये तिरंगा कहलाये

हर रंग की चौड़ी पट्टी मिलकर
भारत की शान (झंडा )बन जाये

पहले पिंकली वेंकैया कृषि वैज्ञानिक थे
अब देश भक्त कहलायें

इस देश की परिकल्पना कर
इस देश मे सम्मान पाये

हर रंग की बात निराली है
हर रंग संदेश हमे दे जाये

केसरिया रंग है देता हमको
साहस और वलिदान की

सफेद रंग से नाता है सच्चाई शांति
और पवित्रता के मान की

हरा रंग हरियाली देता
भरपूर सम्पनता दिखलाये

बीच मे अशोक चक्र शुशोभित
न्याय जी पाठ पढ़ाये

ये 24 तीलियां चंहुमुंखी
विकाश ओर अधिकार की

अपने कर्तव्य से विमुख न होना
ये हमको समझाये

22 जुलाई 1947 को संविधान द्वारा
इस झंडे को मान मिला(अपनाया गया )

इसको भारत मे लहरा कर
खुशियों से भरा सम्मान मिला

आवो हम सब मिलकर
आजादी का जश्न मनाये

भारत माँ की आजादी को अपनाकर
ख़ुशियों के गीत गाये

झूमते सपने

झूमती आसावों झूमते सपनो के बीच।
खिलती मुस्कान खिलते मौसम के बीच ।।

दौड़ते ,खेलते, मस्ती करते सपनो को लहराते ।
उनमुक़्त गगन में खिलते अपनों के बीच ।।

फिक्र क्या होगी, बीमार क्या होंगे, जब।
माँ प्रकृति के संग ,नाता जोड़ लिया तो ।।

उनकी गरीबी ने उनको, बदहाल जीवन मे।
खुले आसमाँ के नीचे ,सड़क पे खुला छोड़ दिया तो।।

इसलिए कितने अनमोल है ,ये बालक ,न शर्म न हया।
बस दिल मे विश्वास ,अपनो की आस में झूमते ।।

चहकते महकते बांगो में ,सुंदर सपने में खोते।
जानवर के संग ,दोस्ती भी बहुरंग में समाते।।

सच कितना अनमोल है, इनका जीवन।।
कोई शिकवा नही, कोई शिकायत नही।।

जीने की तमन्नाओं के, बीच मुस्कान बिखरेते हुए।।
अपने जीवन की जिंदगी के, सपने खिलते हुए ।।

आजाद परिंदा को भाती खिशियों को समेटे हुए
चले जा रहे मन को प्यार से महकते हुए 🙏🙏🙏🍫

💐😘😘😘😘😘
विथ love थिस बेबी

कुमारी मंजू मानस

बिहार शिक्षिका
छपरा सारण

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!