ग्राम टुडे ख़ास

खान सर पटना वाले

रवि कुमार दुबे

वो हिन्दू है कि मुस्लिम है इसपर रार क्यों।
उनके जाति और धर्म पर इतना तकरार क्यों।
वो परेशान है पर डरे नही।
वो अपने बारे में बताने पर अड़े नही।
मीडिया के तरफ से पता नही क्यों इतना दवाव आ रहा है।
इससे तो उनके शिक्षा की शैली में और प्रवाह आ रहा है।
वो हिन्दू है या मुस्लिम है इससे क्या फर्क पड़ता।
उनके कोचिंग के तरीकों से तो खत्म हो रही है विद्यर्थियों की जड़ता।
सभी सेकुलर लोगों से मेरा यही है निवेदन।
आइये ना खुल के करते है उनके शिक्षा शैली का समर्थन।
सेकुलरिज्म की दाल गलाने के लिए स्थान और मौके बहुत मिलेंगे।
खान सर की शिक्षा पद्धतियों से कइयों के जीवन सुधरेंगे।
इससे आपको क्या साहब, आपको तो केवल अपनी दुकान चलानी है।
वो फैज़ल खान है या अमित सिंह सारी इसी की कहानी है।
वो सरस्वती पूजा भी करते है और रमज़ान भी मनाते है।
इसी वजह से शिक्षा को वो जाति धर्म से ऊपर बनाते हैं।
‘रवि’ का तो ये मानना है कि शिक्षा या शिक्षक का नही होता कोई धर्म।
शिक्षा का जो धर्मानुसार बटवारा करे उसका होगा बुरा मर्म।

रवि कुमार दुबे
रेनुसागर, सोनभद्र-231218
8573001630*

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!