ग्राम टुडे ख़ास

तुम मेरे बनकर आना

दिव्यांशीनिषाद

नए साल में तुम नए बनके आना |
दिल में अपने तुम मेरे लिए प्यार भर के आना |

नए मान तुम मेरे लिए सम्मान लेके आना |
मेरे सपने को सच करने को अरमान लेके आना |

संग अपने तुम जीने की आस लेके आना |
दूरियों से दूर तुम मेरे पास आना |

नए साल में तुम मुझसे प्यार करने आना |
फासलो से परे तुम मेरे बनके आना |

नए साल में तुम मेरा सहारा बनके आना |
इस बार तुम मुझे सवारने आना |

नए उमंग , नए ख्वाब लेके आना |
साथ अपने तुम प्यार भरे अल्फाज लेके आना |

दिल संग निगाहों में बसे हो तुम मेरे |
इस बार तुम संग मेरे घर बसाने आना |

नए साल में तुम उदासी , मायूसी को छोड़ आना |
मेरे विपरीत जाने वाली हवाओं को मोड़ आना |

मेरी खुशियाँ , जिन्दगी में तुम साथ जीने आना |
किस्मत में नहीं तो तुम इत्तेफ़ाक़ बनके आना |

सफर में तुम हमसफर बनके आना |
जीवन में तुम मेरे साथी बनके आना |

नए साल में नए चाहत, नए उम्मीद लेके आना |
जिसमे रहो तुम मौजूद वो तकदीर लेके आना |

नए साल में तुम मेरे बनके आना |
दिल में अपने तुम मेरे लिए प्यार भर के आना |

                               -  दिव्यांशी निषाद
50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!