ग्राम टुडे ख़ास

पर्यावरण संरक्षण की ज्योति जलायें

सतेन्द्र शर्मा ‘तरंग’

हर हृदय में पर्यावरण संरक्षण की ज्योति जलायें,
पर्यावरण दूत बनकर इस विचार को संकल्प बनायें।
प्रकृति का अनमोल वरदान है पृथ्वी हमारी,
सब मिल-जुलकर इसे स्वर्ग से सुन्दर बनायें।।

आओ धरा पर पेड़ों की श्रृंखला बनायें,
प्रकृति के वरदानों से जीवन को सजाये।
पेड़ लगाकर अपनी मां भारती को महकायें,
जीवनदायक पेड़ों के साये में जीवन बिताये।।

पृथ्वी पर चहुं ओर जब हरियाली होगी,
हर मानव के जीवन में तब खुशहाली होगी।
पेड़ों की महत्ता अब समझनी ही होगी,
जीवन धारा हरी-भरी अब करनी ही होगी।।

जब दूर तक कंक्रीट का आसमान होगा,
केवल रंगीन दीवारों का जंगल बियांबान होगा।
गर्म हवा के थपेड़ों से मानव जब परेशान होगा,
भूल का अपनी तब मानव को अहसास होगा।।

पेड़ों से बचती हैं धरा पर पावन संस्कृतियां,
पेड़ों से बनती हैं जीवन में सांसों की अनुकृतियां।
बैठकर पेड़ों की छांव में होती नई अनुभूतियां,
गौर से देखो तो सही कभी पेड़ों की आकृतियां।।

विचार करो काट-काट कर पेड़ों को क्या पाओगे,
हवा जब रुकेगी सांसों को गिनते रह जाओगे।
अमूल्य संपदा का जब तिरस्कार करते जाओगे,
पेड़ विहीन धरा को देखकर तब पछताओगे।।

जल संरक्षण भी मानव धर्म होना चाहिए,
जल का सदुपयोग सबका कर्म होना चाहिए।
जल की एक-एक बूंद का संरक्षण होना चाहिए,
संदेश ये जन-जन का आचरण होना चाहिए।।

प्रयोग प्लास्टिक का अब खत्म होना चाहिए,
विरूद्ध इसके अब एक युद्ध होना चाहिए।
शुद्ध कारकों का अब विकास होना चाहिए,
संहार प्लास्टिक का जन-जन का संकल्प होना चाहिए।

गाडि़यों से अब निस्तार होना चाहिए,
पैदल कदमों का अब विस्तार होना चाहिए।
जागें स्वयं भी औरों के हृदय में भी अलख जगायें,
हर हृदय में पर्यावरण संरक्षण की ज्योति जलायें।।

भारत भूमि को मां का हमने स्थान दिया,
जन्मदायिनी से ज्यादा इसका मान किया।
पृथ्वी की नियामतें वरदान हैं हमारे लिए,
इसके उपकारों को सम्मान हमने क्या दिया।।

पर्यावरण संरक्षण कर नमन इसको कर जायें,
पृथ्वी है मां हमारी पुत्र का फर्ज अदा कर जायें।
हर हृदय में पर्यावरण संरक्षण की ज्योति जलायें,
पर्यावरण दूत बनकर इस विचार को संकल्प बनायें।।

सतेन्द्र शर्मा ‘तरंग’,
देहरादून।

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!