ग्राम टुडे ख़ास

मेरे पापाजी

ऋतु गुप्ता

मेरा मानना है कि जिस तरह भगवान के वंदन का कोई एक दिन नहीं होता , ठीक उसी तरह माता पिता के लिए किसी खास एक दिन नहीं हो सकता।हर दिन माता पिता के साथ हो, उनके आशीर्वाद की छाया में हो।

मेरे पापा जी ने बचपन बचपन में ही अपने पापा यानी मेरे दादाजी को खो दिया था,वे जानते थे कि जीवन में पिता का न होना क्या होता है, उसका दर्द क्या होता है इसलिए उन्होंने न केवल अपने बच्चों को बल्कि परिवार के सभी बच्चों को एक पिता का ही प्यार दिया।

माँ के तो हजारों रूप पढे लिखे गये है, लेकिन वो पिता ही है जो अपनी औलाद को उसके पांवो के नीचे धरा जैसा मजबूत आधार देना चाहता है,और सिर पर उज्ज्वल भविष्य का आसमान सजाना चाहता है, और इस सब के लिए वो रात दिन एक कर देता है।

मुझे याद है एक वाक्या जब बचपन में हम मामाजी के साथ नानी के घर जा रहे थे, पहले तो सभी बस और रिक्शे का सफर ही करते थे। मामाजी ने मम्मी और भाई बहन को पीछे बैठा कर मुझे रिक्शे के पाइप पर बैठा दिया , थोड़ी ही दूरी का रास्ता था , लेकिन अचानक घर आने से पहले ही मेरा पैर रिक्शे की चैन में आ गया। मेरे पैर मे निशान बन गया ,जब पापाजी को ये पता चला तो, वो दिन था और आज का दिन उनकी कोशिश रही कि हमें बस का सफर न करना पड़े ।वो बात अलग है कि हम उनसे चुपचाप भले ही बस से आ जाए।

हर पिता अपने बच्चों को अपनी हैसियत से बढ़कर पालता पोस्ता है। उसे जिन्दगी की हर खुशी देना चाहता है।
उनका एक गीत मुझे आज भी याद है….

तू मेरे आंगन की चिड़िया,
कितने नाजों से पाली है।
फिर किस विधि विधाता ने यूं
भाग्य में बेटी के विदाई लिख डाली है।
खुश रहें सदा तू लाड़ो,
कोई भी दुख ना आए।
जिस द्वार से तेरा द्वार मिले,
वो भी खुशियों से भर जाए।

अंत में यही कहूंगी कि पिता और माता दोनों ही जीवन के वे आधार स्तंभ है,जो मिलकर बच्चों को पूर्ण करते हैं। उनका भविष्य उज्जवल बनाते हैं।
2 पंक्तियां अपनी ही कविता से…..

मां यदि शहद सी मीठी, नीम से हितकारी मेरे बाबूजी,
मां यदि मंदिर की घंटी,शंखनाद है मेरे बाबूजी,
मां यदि नींव है घर की ,आधार है मेरे बाबूजी,
मां यदि संस्कार सिखाएं,संघर्ष सिखाएं मेरे बाबूजी।

अपनी कलम से
ऋतु गुप्ता
खुर्जा बुलंदशहर
उत्तर प्रदेश

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!