ग्राम टुडे ख़ास

विश्व पर्यावरण दिवस

आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं

मंजूरी डेका

आज की इस मशीनों के नगरों में पर्यावरण संरक्षण अति आवश्यक हो गया है। उन्नति के नाम पर मनुष्य ने जो पर्यावरण का गलत, अति इस्तेमाल किया है समय समय पर प्रकृति का कहर का सामना पूरे संसार को करना पड़ता है। पंरतु यही बात सत्य है कि पर्यावरण के साथ हमे ताल मेल बनाए ही रखना होगा अन्यथा हमारा सर्वनाश निकट है। पौधों में पीपल, बरगद, नीम, बेल, सहजन, आँवला आदि को प्राथमिकता देना है जो ऑक्सीजन एवं औषधि के रूप में उपयोगी है। जगह स्वयं की हो अथवा रोड आदि के किनारे जो वृक्षारोपण के लिए जगह निश्चित होती है जहाँ पौधे लगाये तो जाते हैं लेकिन उचित देखभाल के अभाव में नष्ट हो जाते हैं। वहीं पर एक-एक वृक्ष की जगह को गोद लेकर अपने नाम का वृक्ष तैयार करें। जिनके पास किसी भी तरह वृक्ष अथवा बड़े पौधे के लिए जगह उपलब्ध नहीं होती है तो उनके लिए निवेदन है दो बड़े गमले घर पर जरूर लायें, उनमें एक में तुलसी और दूसरे में गिलोय अथवा किसी भी औषधीय पौधा को लगाकर घर की सुरक्षा एवं सुन्दरता जरूर बढ़ाये। हम सभी के यह प्रयास मेडिसन नाम की बहुत बड़ी मुश्किलों से रक्षा कर सकता है। ऐसे वृक्षारोपण करके पर्यावरण को स्वस्थ कर सकते हैं । पर्यावरण की सरंक्षण कर सकतें है।आओ हाथ से हाथ मिलाएँ और प्राकृतिक को स्वस्थ बनाए 🙏🏻*जय मानव!* *जय शिक्षार्थी!* *जय प्रकृति* 🙏🏻🙏🏻

🙏🏻*जय मानव!* *जय शिक्षार्थी!* *जय प्रकृति*

मंजूरी डेका

गुवाहाटी, असम

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!