ग्राम टुडे ख़ास

साइकिल की संस्कृति और हम

मंजूरी डेका

साइकिल की गुणवत्ता को देखते हुए 3 जून, 2018 को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के द्वारा आधिकारिक तौर पर सबसे पहले विश्व साइकिल दिवस मनाया गया था। इसके उद्घाटन समारोह में यूएन अधिकारी, एथलेटिक्स, राजनीतिज्ञ, साइकिलिंग समुदाय के कई बड़ी हस्तियों ने हिस्सा लिया था। साल 2021 में चौथा विश्व साइकिल दिवस मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य सभी वर्गों के बीच साइकिल के प्रयोग से होने वाले लाभ के विषय में जागरूकता लाना है। साइकिल चलाने से सेहत के साथ पर्यावरण को भी लाभ पहुंचता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार साइकिल चलाना पैदल चलने से अधिक लाभकारी है। परंतु समय के साथ हम खुद को ज्यादा आराम देने लगे हैं और बाहरी दिखावे के लिए पर्सनल कार,मोटर बाइक का ज्यादा उपयोग करने लगे हैं, जिस कारण पेट्रोल, डीजल का गगनचुंबी दाम, शब्द ,वायु पप्रदर्शन, साथ ही ट्रैफिक में हमारा कीमती वक्त की बर्बादी से लोग पीड़ित हैं। वाहन के खराब होने पर अच्छी खासी रकम खर्च होती है, जबकि साइकिल से यात्रा करने में इसका जोखिम नहीं है। साइकिल एक इंधन मुक्त वाहन है। थोड़ी दूर की यात्रा के लिए हम साइकिल का प्रयोग अवश्य ही कर सकते हैं। ग्लोबल वार्मिंग से बचने का यह एक विकल्प उपाय है। नेदारलैंड साइकिल संस्कृति और साइकिल प्रेम का अद्भुत निदर्शन है। वहां के प्रायः लोगों के पास साइकिल है। वैसे नीदरलैंड सरकार नीति से भी इसे प्रोत्साहन मिला है। यहां के प्रधानमंत्री मार्क रूट साइकल से ऑफिस आना-जाना करते है। नेदारलैंड भ्रमण के समय भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को वहां के प्रधानमंत्री ने एक साइकिल उपहार में दिया था। मोदी जी को साइकिल उपहार में देने के पीछे उनका मकसद था कि विश्व वासी को परिवेश को लेकर जागरूक करना। असल में नेदरलैंड एक ऐसा देश है जो ग्लोबल वार्मिंग के बजह से बहुत सारी समस्यों से जूझते आ रहे हैं। इस कारण वहां के नागरिकों को एक विशेष टैक्स भी देना पड़ता है। इसलिए नेदरलैंड पूरे विश्व को ग्लोबल वार्मिंग ना करने के लिए सचेत करते रहते है। इसी प्रकार डेनमार्क की राजधानी को साइकिल चलाने वाले का स्वर्ग कहा गया है। यहां 50% से भी ज्यादा लोग साइकिल का प्रयोग करते हैं। एक अध्ययन के जरिए मालूम हुआ है कि- बर्लिन में 78%, फिनलैंड में 60%, जापान में 57% और चीन के 38% लोग साइकिल चलाते है। देखा जाए तो साइकिल का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करने से आर्थिक लाभ भी है, शारीरिक लाभ भी है और साथ ही प्रकृति को भी लाभ है। साइकिल चलाने से बहुत सारे बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। ऐसे में इसे अपनी जीवन शैली का अंग बना लेना चाहिए। खुद को स्वस्थ रखने के लिए साइकिल चलाएं। क्यों की निरोगी काया परम सुख का सोपान है।

मंजूरी डेका,

शिक्षिका असम

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!