ग्राम टुडे ख़ास

आज के सदविचार

बिमलेन्दु भूषण पाण्डेय
समन्वय सम्पादक


आज के सदविचार इहे बा क़ि एह जगत में काफ़ी उथल – पुथल मचल बा! एकर कारण ई बा क़ि हमनी के जवन काम करें के चाहीं ऊ नइखी करत जा जबकि जवन काम ना करेके उहे करत बानी जा! ईश्वर हमनी के बनवले बानी एक दूसरा से प्यार करे खातीर आ सांसारिक पदार्थ के इस्तेमाल करे खातीर! ठीक एकरा विपरीत हमनी सांसारिक पदार्थ से प्यार करत बानी आ आदमी के इस्तेमाल! त आईं कुछ सुधार कईल जाव आ उचित व्यवस्था के अपनावल जाव! सांसारिक पदार्थ के इस्तेमाल होखो आ आदमी से प्यार! तब कहीं जाके भोजपुरी माई भाखा साहित्य के समुचित सेवा हो सकी!

(कोरोना काल में समाज एह बात के काफ़ी नजदीक से अनुभव कइले बा )

(जय भोजपुरी, जय सारण भोजपुरिया समाज )

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!