साहित्य

औ” लाल भारती के, शत-शत तुझे नमन है

सुशीला शर्मा

“रचना”
औ”लाल भारती के,
शत-शत तुझे नमन है।
खुशबू से वीरता की,महका यह चमन है।

है धन्य मातृभूमि,
तुझसा सपूत पाकर।
मिलता है रत्न ऐसा, सदियों में कहीं जाकर।
थर्रा उठा था दुश्मन,
गर्वित धरा-गगन है।
खुशबू से वीरता की महका यह चमन है।।

तू दीप जागरण का,
आलोक तुझसे फैला।
हर माँ से आज कह दो, किंचित न मन हो मैला।
सौ बार जन्म लेगा,
देकर गया वचन है। खुशबू से वीरता की, महका यह चमन है।।

श्रृद्धा के पुष्प तुमको करते हैं हम समर्पित।
कण-कण ऋणी रहेगा,
है आन-बान अर्पित।
करके गया है व्याकुल,
जनरल अशुभ गमन है।

औ”लाल भारती के शत-शत तुझे नमन है। खुशबू से वीरता की महका यह चमन है।।

वंदेमातरम् 🇮🇳🙏🙏
सुशीला शर्मा
174/6इन्दिरा कालोनी
मुजफ्फरनगर

95% LikesVS
5% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!