साहित्य

करवा चौथ आस्था विश्वास का पर्व

रीमा महेंद्र ठाकुर

दीपोत्सव, दिपावली, के बारह दिन पहलें सुहागिन स्त्रियों के सुहाग को अभय प्रदान वरदान है करवाचौथ”
कार्तिक माह की चतुर्थी तिथि को सुहागिन महिलाएं (married women) अपने पति की लंबी आयु के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं। इस साल करवा चौथ का व्रत 24 अक्टूबर 2021 दिन रविवार (Sunday) को रखा जाएगा। इस दिन सुहागिनें महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना करती हैं और उनकी सुख-समृद्धि के लिए करवा चौथ के दिन निर्जला व्रत रखती है। हिंदू धर्म में करवा चौथ का व्रत महिलाओं के लिए बहुत खास होता है। इस दिन महिलाएं 16 शृंगार करके चौथ माता की पूजा करती है। रात में गणेश जी, भगवान शिव और माता पार्वती (Lord Shiva and Mother Parvati) की पूजा की जाती है। रात के समय चंद्रोदय के बाद चांद के दर्शन करके उसकी पूजा की जाती है। चांद को अर्घ्य दिया जाता है और फिर पति के हाथों से जल ग्रहण करके व्रत का पारण किया जाता है।

व्रत के नियम (Karwa Chauth Vrat Niyam) काफी कठिन है। कहा जा रहा है कि इस बार पांच साल बाद फिर करवा चौथ पर शुभ योग (Karwa Chauth Shubh Yog) बन रहा है। करवा चौथ पर इस बार रोहिणी नक्षत्र (Rohini Nakshatra) में पूजन होगा। कहते हैं कि करवाचौथ का व्रत बहुत ही सावधानी और नियम के साथ किया जाता है। आइए जानते हैं व्रत के दिन किन बातों का खास ख्याल रखें और भूलकर भी ये काम न करें।

भूलकर भी न करें ये काम
कहते हैं कि व्रत की शुरुआत सूर्योदय के साथ ही होती है। इसलिए भूलकर भी इस दिन देर तक न सोए,

पूजा-पाठ में भूरे और काले रंग के कपड़े पहनना अशुभ माना जाता है। हो सके तो इस दिन लाल रंग के कपड़े ही पहनें क्योंकि लाल रंग प्यार का प्रतीक है और पति-पत्नी के इस प्रेम के प्रतीक व्रत में लाल रंग आपसी प्रेम को और बढ़ाएगा।
इस पवित्र दिन न तो खुद सोएं और न ही किसी सोए हुए व्यक्ति को जगाएं। मान्यता है कि करवा चौथ के दिन किसी भी सोते हुए व्यक्ति को नींद से जगाना अशुभ माना जाता है।

करवा चौथ पर सास द्वारा दी गई सरगी शुभ मानी जाती है। व्रत शुरू होने से पहले सास अपनी बहू को कुछ मिठाइयां, कपड़े और शृंगार का समान देती है। इस दिन सूर्योदय से पहले ही सरगी का भोजन करें और फिर पूरे दिन निर्जला व्रत रहकर पति की लंबी आयु के लिए कामना करें।

इस दिन व्रत करने वाली महिलाओं को अपनी भाषा पर नियंत्रण रखना चाहिए। महिलाओं को इस दिन घर में किसी बड़े का अपमान नहीं करना चाहिए। साथ ही, पति के साथ भी प्रेम के साथ रहना चाहिए।

शास्त्रों में कहा गया है कि करवा चौथ व्रत के दिन पति-पत्नी को आपस में झगड़ा नहीं करना चाहिए। कहते हैं कि झगड़ा करने पर आपको व्रत का फल नहीं मिलेगा।

कहते हैं कि इस दिन सफेद चीजों का दान भूलकर भी न करें। सफेद कपड़े, सफेद मिठाई, दूध, चावल, दही आदि को भूलकर भी किसी को न दें।

करवा चौथ 2021 पूजा मुहूर्त (Karwa Chauth 2021 Puja Muhurat)
कार्तिक कृष्ण की चतुर्थी तिथि 24 अक्टूबर 2021, रविवार को सुबह 03 बजकर 01 मिनट से शुरू होगी, जो कि 25 अक्टूबर 2021 को सुबह 05 बजकर 43 मिनट तक रहेगी। ऐसे में करवा चौथ व्रत पूजा के लिए शुभ मुहूर्त 24 अक्टूबर को शाम 05 बजकर 43 मिनट से 06 बजकर 59 मिनट तक रहेगा।

करवा चौथ का चंद्रोदय समय (Karwa Chauth 2021 Moonrise Time)
चन्द्रोदय समय: शाम 7 बजकर 51 मिनट पर होगा।

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।
दि ग्राम टूडे “

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!