साहित्य

करो योग रहो निरोग।।

__रचयिता।।एस के कपूर”श्री हंस”


1
योग से काया
मनुष्य हो निरोगी
स्वास्थ्य ये लाया
2
योग करता
दृढ़ता है बढ़ती
रोग हटता
3
योग आहार
शुद्ध होते विचार
स्वस्थ आकार
4
अक्षय ऊर्जा
योग भगाये रोग
बचता खर्चा
5
योग का मार्ग
स्वास्थ्य और संयम
ये रोग भाग
6
योग से बल
योग से आत्मबल
शरीर चल
7
निरोगी काया
भोग विलास दूर
योग की माया
8
योग सम्बन्ध
योग व्याधि का वध
हो गद गद
9
पयार्प्त योग
दूर हो हर रोग
स्वास्थ्य का जोग
10
योग ही श्रेष्ठ
निरोगी होती काया
है सर्वश्रेष्ठ

रचयिता।।एस के कपूर”श्री हंस”
बरेली।।

50% LikesVS
50% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!