कवितासाहित्य

कॉफी हाऊस,मैं और तुम


__डॉ.रामावतार सागर


कॉफी हाऊस है
और हैं मैं और तुम
और बीच में पसरी ये टेबिल
कॉफी हाऊस के सन्नाटे के बीच
बतिया रही है तुम्हारी आँखें
आज कुछ ज्यादा ही मुखर होकर
जो कुछ भी मौन नहीं कह पाया
आज तुम्हारी आँखें बोल रही है
चिट्ठियों का कहा….अनकहा
सब कह रही है तुम्हारी आँखें
मेरे पास न आँखें है और ना शब्द
तुम्हारी ही आँखों से
पढ़ना चाहता हूँ खुद को
एक इबारत सी तुम मेरे सामने हो
जिसे पढ़ कर मुझे देना है
इंतिहान….प्रेम का
डूबकर पढ़ लेना चाहता हूँ तुम्हें
पास कर लेना चाहता हूँ
वो हर परीक्षा….जो पहुँचा दे मुझे
प्रेम की दूसरी सीढ़ी पर
जहाँ मैं और तुम मिलकर हम हो सके
(2)
तुम्हें बतियाने को रहते थे
ढेरों लफ्ज…..और
मेरे पास पसरा रहता था मौन
आज फिर कॉफी हाऊस है
और हैं हम…
आज भी बीच में पसरी है टेबिल
और उस पर फैले हैं
हमारे हाथ…एक दूसरे को थामे
विश्वास दिलाते कि रहेंगे सदा साथ
अब भी हमारी आँखें खोई है
एक-दूसरे की आँखों मेंं
अब भी इनमें बसा है प्रेम
जो अब बयां होने लगा है
हाथों की लरज़िश से भी
बातूनी तुम्हारी आँखें
आज भी बोल-बोलकर
रटा रही है ढाई आखर
इतने दूर निकल आने पर भी
प्रेम न जाने क्यों बँधा रहता है
गठरी की तह में….जीवन की
जरूरी चीजें बाँध ली जाती है
वैसे ही जरूरी होता है
जीवन के सफर में प्रेम
इन ढाई आखर से पूरा हो जाता है
जीवन का ढाई कोस सफर


डॉ.रामावतार सागर
कोटा, राज.

100% LikesVS
0% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!