कवितासाहित्य

कौन हो तुम ?

एक सुंदर सा अनन्य एहसास हो तुम…
कितनी दूर हो फिर भी पास हो तुम…
कौन हो तुम ?

मेरी शायरी की धुन हो तुम…
मेरी मुस्कान का बजह हो तुम…
कौन हो तुम ?

मेरे विश्वास का प्रतीक हो तुम…
मेरी प्रतीक्षा का अंत हो तुम…
कौन हो तुम ?

मेरी दिल की धड़कन हो तुम…
मेरे जीवन के सफर में सबसे खास हो तुम…
कौन हो तुम ?

  • संघमित्रा साहू
    कटक, उड़ीसा
100% LikesVS
0% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!