साहित्य

ख्यालों से खुदको सजाया है हमने

पूनम शर्मा स्नेहिल


💞🦋💞🦋💞🦋💞🦋💞🦋💞🦋💞

यूँ खुश्बू से तेरी महका करते हैं ।
सच कहें ख्यालों से तेरी खुद को सजाया है हमनें ।

ये तबस्सुम जो लबों पर आकर ठहर जाती हैं ।
ख्यालों में जब भी तुझे दोहराया है हमने ।

तेरी यादों से खुद को कैसे जुदा करें हम ।
तन्हाई में भी उसी का साथ पाया है हमने ।

हाँ छूकर गई जो हवा मुझे अभी इस पल ।
छेड़ कोई तराना लगा आगोश में मुझे छुपाया है तुमने ।

खुद को सजाती हूँ अक्सर तेरे खयालों से मैं।
कैसे कहूं खुद के भीतर तुझको हर पल पाया है हमने ।।

©️®️पूनम शर्मा स्नेहिल ☯️

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!