कवितासाहित्य

मां तेरा न होना बहुत अखरता है

__स्वरचित : पिंकी मिश्रा


जीवन के किरदार है जितने हंस कर उन्हें निभाती हूं,
मुझ में मेरा जरा सा होना , बहुत अखरता है ।
जब्त कभी कर जाती थी बहते आंसू, सिसकी को ,
फफक-फफक कर मेरा रोना , बहुत अखरता है ।

देख रही थी दर्पण में,बाहर कुछ खास नहीं बदला
भीतर भीतर कुछ टूट गया लाख संभाले नहीं संभला
जब तीर चुभे विष वाणों के, घाव बहुत गहरे देते हैं
धीरे धीरे खुद को खोना, बहुत अखरता है ।

बदला मैंने खुद को इतना ,मैं मेरे जैसी न रह पाई
बंधे बांध कुछ ऐसे रिश्तों के,सरिता बन न बह पाई
दफन किए अरमान सभी ,दम तोड़ रहे मेरे संग में
कांधे पर अपना शव ढोना , बहुत अखरता है।

तुम जैसा इस  धरती  पर,  मां  अब कौन  दुलारेगा
कौन पढ़ेगा आंखों की उदासी, नजर कौन उतारेगा
मतलब के सब रिश्ते नाते , मतलब की दुनियादारी
जीवन के पतझड़ में तेरा न होना, बहुत अखरता है।

स्वरचित : पिंकी मिश्रा
भागलपुर बिहार।

100% LikesVS
0% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!