साहित्य

मेहनतकश मजदूर की तस्वीर

डॉ. रीना रवि मालपानी

मजदूर की तस्वीर होती मेहनत और हौसलों की उड़ान से भरी।

वैसे तो हर व्यक्ति की आवश्यकताओं की है अपनी-अपनी कटघरी॥

रोटी की जुगाड़ में श्रमरत हर व्यक्ति है मजदूर।

आवश्यकताओं की पूर्ति में कभी-कभी हो जाता है मजबूर॥

जीवन को बनाएँ आसान डाले मेहनत का रंग।

मजदूर जीवन को उन्नत बनाता मेहनत के संग॥

वेतन की असमानता से न करें मजदूर को परिभाषित।

मेहनत, हिम्मत और पसीना बहाकर तो भाग्य भी होता पल्लवित॥

निर्माण की परिपाटी में जो है कार्यरत।

सड़क, इमारत, पुल, बाँध की जो करता है मरम्मत॥

जिसने लगाई चारों ओर विकास की झड़ी।

कार्य की अनवरतता में जो नहीं देखता घड़ी॥

झुग्गी झोपड़ी में लगाकर समस्याओं का ताला।

मेहनत का पसीना बहाकर करता विकास मतवाला॥

अपने खून-पसीने से जो रखता मेहनत की नींव।

बुलंद हौसलों से गगन चुम्बी इमारतों को बनाता सजीव॥

सुविधाओं से वंचित रहना भी जो करता सहर्ष स्वीकार।

विकास का सुनहरा स्वप्न जो करता है साकार॥

सृजन की ओर जो बढ़ा रहा है निरंतर कदम।

जो भरना चाहता है केवल मेहनत और हौसलों का दम॥

जिन मेहनतकश मजदूरों के श्रम ने बनाया बेहतर चमन॥

डॉ. रीना कहती, करते हम उनके अथक प्रयासों को नमन।

डॉ. रीना रवि मालपानी (कवयित्री एवं लेखिका)

50% LikesVS
50% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!