कवितासाहित्य

राम नाम के हीरे मोती

चंद्रकला भगीरथी

राम नाम के हीरे मोती।
मै बिखराऊ गली गली।
है को राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

मैने अयोध्या में राम को देखा।
साँवली सूरत मोहिनी मूरत।
सबके दिलो में बसे है गली गली।
है कोई राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

राम नाम के हीरे मोती।

मैने राम रुपी मोती कृष्ण में देखे।
गोकुल घूमू वृंदावन घुमु गली गली।
है कोई राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

राम नाम के हीरे मोती।।

मैने राम रुपी मोती शिव में देखे।
कैलाश में घूमू पर्वत पर घूमू गली गली।
है कोई राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

राम नाम के हीरे मोती।।

मैने राम रुपी मोती विष्णु में देखे।
वैकुण्ठ घूमू देवलोक घूमू गली गली।
है कोई राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

राम नाम के हीरे मोती।
मै बिखराऊ गली गली।
है कोई राम प्यारा ।
शोर मचाऊ गली गली।।

चन्द्रकला भागीरथी धामपुर जिला बिजनौर उतर प्रदेश

50% LikesVS
50% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!