साहित्य

साक्षात्कार साहित्यकार का

साक्षात्कार: प्रतिभा दुबे

साक्षात्कारकर्ता: नवनीत चौधरी विदेह

1- अपना संक्षिप्त परिचय दीजिए ( जन्म,शिक्षा,व्यवसाय,रुचियाँ आदि )
उतर –

जीवन परिचय

नाम:–श्रीमती प्रतिभा दुबे (स्वतंत्र लेखिका)
पति का नाम : श्रीमान विकास दुबे जी
माता का नाम :– श्रीमती कमलेश शर्मा
पिता का नाम:– स्वर्गीय श्री राजेंद्र प्रसाद शर्मा
पुत्र / पुत्री :– कनिष्का दुबे ( संख्या ) १
जन्मतिथि :– 13/08/83

जन्म स्थान :– ग्वालियर मध्य प्रदेश
पता :–माधवगंज , महाराज बाड़ा ग्वालियर
राज्य : – मध्य प्रदेश ग्वालियर
पिन कोड 474001: फोन –8109159541
स्कूल : सरस्वती शिशु मंदिर लश्कर ग्वालियर
पद : कंप्यूटर शिक्षक ( सहायक शिक्षक )
शैक्षणिक योग्यता :
B.Sc. computer science (University) Gwalior
PGDCA in computer science (KRG college)
लेखन कार्य में अभिरुचि साथ ही सीखने की जिज्ञासा रखती हूं ।

प्राप्त सम्मान : लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स भारत की पहली महिला वाइस चांसलर के रूप में लिखित कविता के लिए, महाराष्ट्र थिक बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, साहित्य सिद्धि सम्मान से सम्मानित, साहित्य रत्न बुलंदी सम्मानित , भारत गौरव राष्ट्रीय सम्मान, डीडी भारती सम्मान, विश्व कविता पाठ के लिए सम्मानित, फेसबुक के कई सारे समस्त रचनाकाल मंडल में उत्कृष्ट सृजन के लिए सम्मानित एवं निरंतर कई प्रकार के लेख आलेख लिखने के लिए मध्य प्रदेश की गौरवान्वित महिला के रूप में सम्मानित अन्य भी कई प्रकार के सम्मान से सम्मानित किए गए हैं सभी प्रमाण पत्र के रूप में हमारे पास सुरक्षित है।
प्रकाशन – सिद्धि कलश मासिक पत्रिका में प्रकाशन , हम हिन्दुस्तानी साप्ताहिक पत्रिका में प्रकाशन जारी,स्टोरी मिरर, जनभाषा हिंदी .कॉम , भारत .कॉम,डीडी भारती प्रखाशन,आचरण , अंश केसरी , नव भारत , गुरुग्राम टुडे पोर्टल एवम समाचार पत्र , दिल्ली समाचार women express , खबर वाहिनी, मुंबई अमरदीप , दृश्य भारती आगरा, सबुरी टाइम्स ,असल न्यूज ,जनतंत्र गाथा, देव दूत पत्रिका , प्रोपर न्यूज , दैनिक भास्कर, स्वदेश , वसुंधरा ग्वालियर, लखनउ का अभिमान समाचार, ग्वालियर किरण, इंदौर समाचार, ग्वालियर जागरण , हमारा मेट्रो, प्रयाग भारत , न्यूज़ भारत आदि सम्मानित प्रकाशन मैं प्रकाशित सम्मान , सामाजिक कार्यकर्ता , संरक्षक आदि सम्मान से सम्मानित।
वर्तमान सामाजिक पद

2- आपने लिखना किस उम्र से आरंभ किया ? और किसकी प्रेरणा से किया ?
उत्तर= lockdown के अंतर्गत प्रतिक्रिया शुरू की साहित्य जगत में पहिले मोटिवेशन के लिए एफबी स्तर पर लिखते थे🙏

3- अपने साहित्यिक गुरु का नाम बताइये ?
उत्तर= मेरे पिताजी ।( राजेंद्र प्रसाद शर्मा )

4- किन-किन साहित्यिक विधाओं में लिखते हैं ?
उत्तर= समस्त विधाओं में लिखने का प्रयास जारी🙏

5- पहली रचना कब और किस पत्रिका/अखबार में प्रकाशित हुई ?
उत्तर= 2019 अमेरिका प्रकाशित समाचार पत्र द्वारा रचना का नाम
मां की बालूशाही।

6- अपने साहित्य से आप समाज को क्या कहना चाहते हैं ?
उत्तर= समाज को बस एक को सकारात्मक संदेश देना चाहती हूं के
हमारी नई पीढ़ी को हमारे इतिहास और हिंदी के लिए सशक्त और ज्ञान ज्ञान रहना चाहिए हमें ध्यान देना होगा कि हमारी संस्कृति हमारे इतिहास और हमारा साहित्य हमारी धरोहर है।

7- अपनी प्रकाशित पुस्तकों के नाम बताएँ ?
उत्तर= कई सारी पत्रिकाओं में सह भगिता के कारण किसी एक पुस्तक का नाम लेना उचित नहीं ।

8- क्या किसी पुस्तक का संपादन किया है ? नाम बताएँ
उत्तर= नही।

9- भविष्य की साहित्यिक योजनाओं के विषय में अवगत कराएँ
उत्तर= अच्छे साहित्य लेखन के साथ अपनी स्वयं का किताब के प्रकाशन के साथ-साथ बच्चों के लिए साहित्य की बिधाओ में
पढ़ने हेतु सामग्री उपलब्ध कराना।

10- अपनी पसंदीदा पुस्तक का नाम बताएँ ?
उत्तर= रामायण।

11- आप किस साहित्यकार में अपना अक्स देखते हैं ? अथवा आप किस साहित्यकार से प्रभावित हैं ?
उत्तर= रामधारी दिनकर जी !

12- आपको मिलने वाले सम्मानों के विषय में अवगत कराएँ ..
उत्तर – समस्त प्रकार के साहित्य सम्मान से सुशोभित एवं सामाजिक सेविका होने के नाते कई सारे पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं।

13- नये कलमकारों/साहित्यकारों को क्या संदेश देना चाहेंगे ?
उत्तर= हिंदी बहुत ही अनमोल रतन है इसे जानिए समझिए साहित्यकार तभी साहित्यकार कहलाता है जब हम अपने वतन की मिट्टी की खुशबू को हर जगह हिंदी भाषी के रूप में फैलाता है।

14-क्या कभी आकाशवाणी एवं दूरदर्शन पर प्रसारित होने का अवसर मिला है ?
उत्तर= जी आकाशवाणी पर।

15 – क्या कविसम्मेलनों का हिस्सा बने हैं ?
उत्तर= काफ़ी सारे ! लगभग मध्य प्रदेश के समस्त प्रतिष्ठित साहित्य समूह में ।

16 – आपकी नजर में साहित्य क्या है ?
उत्तर = साहित्य मां सरस्वती की एक उपासना है जिसके द्वारा लेखक अपने ज्ञान , अभिलाषा एवं अपनी मानसिक कृति सभी के समक्ष रखता है गीत ,गजल, रचनाओं दोहा, छंद, लेख, आलेख गद्य पद्य के रूप में।

17 – फेसबुक के साहित्य को आप किस दृष्टि से देखते हैं ?
उत्तर= फेसबुक साहित्य के लिए एक बहुत ही अच्छा माध्यम है इससे हमारी हिंदी साहित्य का प्रचार प्रसार भारत के अलावा अन्य देशों तक भी पहुंचता है और यह एक बहुत ही अच्छा प्लेटफार्म है जिस पर सभी साहित्यकार आसानी से एक दूसरे से जुड़ाव रख सकते हैं।

100% LikesVS
0% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!