साहित्य

जितेन्द्र ‘कबीर’ की कलम से

ख्वाबों का जहां

इस जहां से परे
न जाने कितने जहां बसते हैं,
हर शख्स यहां
अपने ख्वाबों का जहां लिए फिरता है।

घटती नहीं हैं चीजें जब
इस जहां में उसके हिसाब से
तो ‘ख्वाब-जहां’ में अपनी
दमित इच्छाओं का बहाव लिए फिरता है।

मिले चाहे न मिले उसे
यहां अपने मन का कुछ भी
लेकिन ‘ख्वाब-जहां’ में अपने
कल्पवृक्ष खुद के हजार लिए फिरता है।

मुश्किलें मिलती हैं अक्सर
बहुतायत में यहां हर किसी को
इसलिए ‘ख्वाब-जहां’ में अपनी
सब मुश्किलों का निदान लिए फिरता है।

अपनी नजरों में है हर इंसान
दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण इंसान,
‘ख्वाब-जहां’ में अपनी
वो इसी बात की तस्दीक किए फिरता है।

इंसान को इंसान से तो मिलाया

होशो-हवास में अक्सर


दूसरे धर्म के लोगों के खिलाफ
नफरत उगलने वाले कई लोगों को,
नशे की हालत में उनके साथ ही
गलबहियां डाले गीत गाते
जब देखा मैंने तो ख्याल आया
कि नशा लाख बुरा हो अपनी जगह लेकिन
जो बड़े से बड़ा महान इंसान न कर पाया
वो इस नशे ने कर दिखाया,
कुछ समय के लिए ही सही
धर्म भुला इंसान को इंसान से तो मिलाया।

होशो-हवास में अक्सर
दूसरी जाति के लोगों के साथ बैठकर
खाना खाने से परहेज करने वाले
कई लोगों को,
नशे की हालत में उनके साथ ही
एक थाली में खाना खाते
जब देखा मैंने तो ख्याल आया
कि नशा लाख बुरा हो अपनी जगह लेकिन
जो भेद सदियों से इंसान न मिटा पाया
वो इस नशे ने मिटाया,
कुछ समय के लिए ही सही
जाति भुला इंसान को इंसान से तो मिलाया।

आस्था और विश्वास के नाम पर

सदियों से इंसान का शिकार
बनता रहा है जानवर,
जीभ का स्वाद व पेट की भूख
मूल में रही इन हत्याओं के पीछे
लेकिन जायज ठहराता रहा है इन्हें
इंसान अक्सर कभी किसी
परम्परा के नाम पर तो कभी
आस्था-विश्वास के नाम पर।

वैसे देखा जाए तो
बहुत सारे जीव हैं इस सृष्टि में
अपना पेट भरने के लिए
अपने से कमजोर जीवों पर निर्भर
लेकिन लेते नहीं हैं कभी वो
किसी जीव की जान
अपने इष्ट देवता को प्रसन्न करने
के नाम पर या फिर किसी
धार्मिक अनुष्ठान के नाम पर।

सिर्फ इंसान में ही है यह प्रवृत्ति
कि वो अपने द्वारा की गई हत्याओं को
लाजमी बताता है
कभी शौक पूरा करने के नाम पर
तो कभी अपने अस्तित्व को
बचाए रखने के नाम पर,
कभी अपनी जरूरतों के नाम पर
तो कभी अपने रीति- रिवाजों को
बनाए रखने के नाम पर।

                            
साहित्यिक नाम - जितेन्द्र 'कबीर'
संप्रति - अध्यापक
पता - जितेन्द्र कुमार गांव नगोड़ी
 डाक घर साच तहसील व
 जिला चम्बा हिमाचल प्रदेश
संपर्क सूत्र - 7018558314
100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!