साहित्य

मन से रची कविताएं,जो सीधे मन में उतर जाएं

समीक्षा : मेरी अभिव्यक्तियां
समीक्षक: डॉ अनिल शर्मा अनिल
लेखिका: नीलम द्विवेदी


छत्तीसगढ़ की लोकप्रिय रचनाकार नीलम द्विवेदी की 80 मनोहारी विविध भाव रंगी काव्य
रचनाओं का संकलन है-मेरी अभिव्यक्तियां।
इस संकलन को नीलम जी ने अपने जीवन साथी डॉ.भास्कर द्विवेदी को समर्पित किया है।
जिनका साथ उनकी रचनात्मक सुरुचि में पूर्ण सहायक है।
प्रसिद्ध संपादकों, लेखकों के शुभकामना संदेश संकलन में शामिल रचनाओं और नीलम द्विवेदी की रचनाधर्मिता को गरिमा प्रदान कर रहे हैं। इनमें राजेन्द्र सिंह राठौर, श्रीमती श्वेता श्रीवास्तव,शिवेश्वर दत्त पाण्डेय,चौधरी गजेन्द्र सिंह, राघवेन्द्र ठाकुर, विनोद शर्मा ‘विश’ और श्रीमती मौसमी दीवान के नाम उल्लेखनीय हैं।
नीलम द्विवेदी ने अपने मनोभावों को सहज,सरल अभिव्यक्ति देते हुए अपने संकल्प को इन शब्दों में व्यक्त किया है-
तूफानों से लड़कर भी
उस पार मुझे अब जाना है।
सरिता सी बहते जाना है,
अब तोड़ सभी बाधाओं को।

यह भाव यात्रा किसी बंधन और रुकावट को न मानते हुए आगे बढ़ती गयी है। इसमें धर्म, अध्यात्म, समाज, परिवार,राष्ट्र,पर्यावरण, सामाजिक विसंगतियां, तीज त्यौहार, मनोदशाएं आदि कविता की शक्ल में
हमारे सामने आयी हैं।

इन कविताओं में प्रवाह है,सहजता और सरलता है।सरसता है,चिंतन और दर्शन है।
शब्दों में व्यक्त मन है। भावों की सहज अभिव्यक्ति है,राष्ट्रीय भावना है।ईश्वर से कामना है। प्रार्थना है।घर की बात है, अनछुए जज़्बात है। बिना किसी लाग-लपेट के सीधे सीधे संवाद है, इसीलिए इनका अलग प्रभाव है। क्लिष्ट शब्दों का प्रयोग नहीं है। सीधे हृदय में उतरते भाव है। आम बोलचाल और दैनिक जीवन के अपने आसपास के दृश्यों को दिखाती इन कविताओं के संकलन मेरी अभिव्यक्तियां में नीलम द्विवेदी ने अपने मन को पाठकों के समक्ष खोलकर रख दिया है। ये कविताएं मन से लिखी गयी,मन की बात है,जो सीधे मन तक उतर जाती हैं।
समीक्षित कृति- मेरी अभिव्यक्तियां
रचनाकार- नीलम द्विवेदी
प्रकाशक- मनोहर साहित्यिक क्रिएशंस लखनऊ
मूल्य -₹249
समीक्षक- डॉ.अनिल शर्मा ‘अनिल’
धामपुर उत्तर प्रदेश

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!