साहित्य

साड़ी

प्रो.आराधना प्रियदर्शनी

एक ख़ुशी का संचार है,
अपना सा एक व्यवहार है,
एक लहज़ा है संस्कार है,
एक स्त्री का श्रृंगार है।

संभावनाओं की उत्पत्ति है,
भावनाओं की आकृति है,
कहीं रिवाज़ों की सहेली, 
तो कहीं भारत की संस्कृति है।

चंचल मृदुल नहरों की तरह,
सौंदर्य को एक आभार है,
इनसे जुडी श्रद्धा और साधना,
खुशियों का जैसे त्यौहार है।

ज्ञान तो अपने अंदर है,
अपना ही आत्मसत्कार है,
वस्त्र छवि को निखारता है, 
ना की एकमात्र सरोकार है।

दृष्टिकोण है अपना अपना,
ना कुछ भी अलभ्य है,
साड़ी सिर्फ पोशाक नहीं,
एक किरदार अनोखी सभ्य है।

सुंदरता की प्रतिमा अनुपम,
मनचला मनमाना सा बादल है, 
कभी धर्म कभी मानवता का प्रतीक 
सहज लहराता ममता का आँचल है।

पोशाक से हम प्राचीन और नवीन नहीं होते,
ये तो बस एक छलावा है,
साड़ी नारी का सम्मान है,
ना की एकमात्र पहनावा है।

प्रो.आराधना प्रियदर्शनी 
स्वरचित एवं मौलिक
हजारीबाग
झारखंड

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!