साहित्य

सयाली छंद

सुषमा दीक्षित शुक्ला

सयाली छंद 1


सुनो
मेरी पुकार
हे परम पिता
दया करो
अब

सयाली छंद 2


सुन
प्यारी माँ
तू ही करुणामयी
ममतामयी है
सदा ।

सयाली छंद 3


सुनो
मेरे प्रियतम
प्रत्येक क्षण में
तुम साथ
हो

सयाली छंद 4


प्यारी
बिटिया रानी
तुम मेरी खुशी
मेरा प्रतिबिम्ब
हो

सयाली छंद 5


मेरा
गौरव है
मेरी शान है
सपूत है
मेरा।

50% LikesVS
50% Dislikes

Shiveshwaar Pandey

शिवेश्वर दत्त पाण्डेय | संस्थापक: दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह | 33 वर्षों से पत्रकारिता में सक्रिय | समसामयिक व साहित्यिक विषयों में विशेज्ञता | प्रदेश एवं देश की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक एवं मीडिया संस्थाओं की ओर से गणेश शंकर विद्यार्थी, पत्रकारिता मार्तण्ड, साहित्य सारंग सम्मान, एवं अन्य 200+ विभिन्न संगठनों द्वारा सम्मानित |

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!