उत्तरप्रदेश

गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के आधार पर ही बच्चे के विकास की प्रक्रिया सुनिश्चित की जाती हैः श्रद्धा लोकेश

सहारनपुर । कमिश्नर सहारनपुर मंडल सहारनपुर की धर्मपत्नी श्रीमती श्रद्धा लोकेश जी द्वारा रामपुर मनिहारान में गर्भवती माताओं, धात्री माताओं, किशोरी बालिकाओं तथा आईसीडीएस विभाग के लाभार्थियों से वार्ता की गई तथा उनके बीच में जाकर उनकी समस्याओं को सुना गया । इस अवसर पर मैडम के साथ जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आशा त्रिपाठी उपस्थित रही । बाल विकास परियोजना अधिकारी श्रीमती कुसुम लता जी द्वारा स्टॉल का निरीक्षण एवं वृक्षारोपण का कार्यक्रम आदरणीय मैडम के कर कमलों से कराया गया । आदरणीय मैडम द्वारा गर्भवती माताओं की गोद भराई की गई ,जिसमें गर्भवती महिलाएं क्रमशः श्रीमती सविता, श्रीमती रहाना, श्रीमती रुखसाना, श्रीमती सरला ,श्रीमती कविता, श्रीमती पूजा तथा अन्य उपस्थित रहे। कमिश्नर साहब की धर्मपत्नी श्रद्धा जी द्वारा किशोरी बालिकाओं को आयरन की गोलियां तथा लाभार्थियों को नवीन राशन प्रणाली का वितरण भी किया गया। आदरणीय मैडम द्वारा गर्भवती महिलाओं को सलाह दी गई कि


1- आप अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें । दिन में 2 घंटा आराम करें ।
2-हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें समय-समय पर अपने रक्त का परीक्षण कराते रहें ताकि यह पता चले कि शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कितनी है । सामान्य महिलाओं में हीमोग्लोबिन की मात्रा 11 ग्राम से ऊपर होनी चाहिए यदि इससे कम है तो आपको विशेष ध्यान रखने की जरूरत है ।
3-अपने गर्भकाल में आप अतिरिक्त आहार लेते रहे पचरंगा और सप्तरंगा भोजन व्यवहार में शामिल करें क्योंकि आपके स्वास्थ्य के आधार पर ही बच्चे की विकास की प्रक्रिया सुनिश्चित की जाती है। यदि अब आप अपना ध्यान नहीं रखेंगे तो बच्चा भी कुपोषण का शिकार हो जाएगा और आपको बार-बार चिकित्सक की शरण में जाना पड़ेगा तो अच्छा रहेगा कि आप गर्भकाल में ही अपने बच्चों की उचित देखभाल के बारे में ध्यान दें ,अच्छा सोचे, अच्छा बोले और अच्छी भावना रखें ,क्योंकि पेट में पलने वाला शिशु सभी बातें सुनता है। उसी के आधार पर उसकी जीवन का विकास होता है।
4-प्रतिदिन पूरे दिन में नारियल का पानी जरूर पिए इससे बच्चे की ग्रोथ अच्छी होती है और उसके अंदर प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है ।
5-धात्री माताओं के लिए आदरणीय कमिश्नर साहब की मैडम द्वारा यह सलाह दी गई की माता का दूध ही बच्चे का प्रथम टीकाकरण है। वह अमृत के समान है, इसलिए जन्म के तुरंत बाद 1 घंटे के भीतर ही बच्चे को मां का दूध पिलाया जाना चाहिए। और 6 महीने तक पूर्णरूपेण माता का ही दूध बच्चे को देना चाहिए। क्योंकि संक्रमित रोगों से इससे बचाव होता है और बच्चा बीमार नहीं पड़ता और कुपोषण का शिकार नहीं होता है।
6- मैडम द्वारा किशोरी बालिकाओं को सलाह दी गई कि आप पढ़ाई अपनी जारी रखें और स्कूल ना छोड़े 11 साल से 14 साल तक की 12 किशोरियों को आयरन की टेबलेट मैडम द्वारा वितरित की गई तथा उन्हें व्यवसायिक शिक्षा से जोड़ने के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया गया । कार्यक्रम में 4 बच्चो का अन्नप्राशन कार्यक्रम भी आदरणीय मैडम द्वारा किया गया।
7- जो बच्चे 6 महीना पूरा कर चुके हैं उनको अतिरिक्त पोषाहार की आवश्यकता होती है । अतिरिक्त ध्यान की आवश्यकता होती है, अतिरिक्त पोषण की आवश्यकता होती है, इसको दृष्टिगत रखते हुए बच्चे को 6 माह के बाद अन्नप्राशन कार्यक्रम कराया जाता है । बच्चे सोनू, लवी, कृतिका ,शिया का अन्नप्राशन कार्यक्रम आदरणीय मैडम द्वारा किया गया।
8- लाभार्थियों को नवीन पोषाहार प्रणाली से जिन्हें पोषण ट्रैकर के माध्यम से आच्छादित किया जा रहा है । श्रीमती श्रद्धा लोकेशजी द्वारा बच्चों को राशन का वितरण भी किया गया।


आदरणीय मैडम द्वारा बाल विकास परियोजना के प्रांगण में वृक्षारोपण भी किया गया तथा पोषण वाटिका का अवलोकन किया गया। बहुत ही सुंदर पोषण वाटिका शहर की कार्यकत्रियों द्वारा बनाया गया था । पोषण वाटिका के लाभ के बारे में श्रीमती श्रद्धा लोकेश जी द्वारा सभी लाभार्थियों को बताया गया कि आप पोषण वाटिका अपने घर के पास लगाएं और उससे हरी ताजा सब्जियां अपने बच्चों को खिलाएं । सभी लाभार्थियों को यह बताया गया कि आप सभी अपने पैरंट्स से कोविड-19 के बारे में वार्ता करें और उन्हें प्रोत्साहित करें वे कोविड टीकाकरण अवश्य करा लें क्योंकि अगर एक भी व्यक्ति टीकाकरण से वंचित रहेगा तो कोविड-19 का संक्रमण उसे कभी भी हो सकता है। जिससे पूरा परिवार प्रभावित हो सकता है । सभी व्यक्तियों को लाभार्थियों को व्यवहार परिवर्तन की सलाह मैडम द्वारा दी गई । यदि अपने व्यवहार में परिवर्तन नहीं लाएंगे तो आपका स्वास्थ्य उत्तम नहीं बन पाएगा इसलिए अपने खानपान में अधिक से अधिक पानी, हरी पत्तेदार सब्जियां, पंचरंगा भोजन, दही ,दूध इत्यादि शामिल करें। व्यायाम करें और अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान दें । स्वच्छता का विशेष ध्यान दें तभी हम स्वयं को स्वस्थ रख सकते हैं ।समाज में बदलाव ला सकते हैं और आपके बदलाव से देश में भी अच्छी आदतों का विकास होगा और देश बदलेगा। विकास की गति पर आगे की ओर उत्तरोत्तर बढ़ेगा । जिला कार्यक्रम अधिकारी आशा त्रिपाठी द्वारा मैडम का धन्यवाद ज्ञापित किया गया । बाल विकास योजना अधिकारी श्रीमती कुसुम लता द्वारा सभी अधिकारियों सब पत्रकारों का आभार व्यक्त किया गया

50% LikesVS
50% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!